वेदाबेस​

श्लोक 18.24

यत्तु कामेप्सुना कर्म साहङ्कारेण वा पुन: ।
क्रियते बहुलायासं तद्राजसमुदाहृतम् ॥ २४ ॥

यत्– जो; तु– लेकिन; काम-ईप्सुना– फल की इच्छा रखने वाले केद्वारा; कर्म– कर्म; स-अहङ्कारेण– अहंकार सहित; वा– अथवा; पुनः– फिर; क्रियते– किया जाता है; बहुल आयासम्– कठिन परिश्रम से; तत्– वह; राजसम्– राजसी;उदाहृतम्– कहा जाता है |

भावार्थ

लेकिन जो कार्य अपनी इच्छा पूर्ति के निमित्त प्रयासपूर्वक एवं मिथ्याअहंकार के भाव से किया जाता है, वह रजोगुणी कहा जाता है |

बेस- पूरे विश्व में वैदिक संस्कृति सिखाने का लक्ष्य

©2020 BACE-भक्तिवेदांत सांस्कृतिक और शैक्षणिक संस्था

www.vedabace.com यह वैदिक ज्ञान की विस्तृत जानकारी है जो दैनिक साधना, अध्ययन और संशोधन में उपयोगी हो सकती है।

अधिक जानकारी के लिए कृपया संपर्क करें - info@vedabace.com

hi_INHindi